17 अप्रैल : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

17 अप्रैल : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Share This

अगली लोकसभा में नजर नहीं आएंगे कई दिग्गज, बीजेपी ने नहीं दिया इन दो वरिष्ठ नेताओं को टिकट

Many veterans will not be seen in the next Lok Sabha

नई दिल्ली।पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी, कमलनाथ, राम विलास पासवान, करिया मुंडा और मुरली मनोहर जोशी जैसे कई दिग्गज अगली लोकसभा में नजर नहीं आएंगे। सोलहवीं लोकसभा की अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, उमा भारती और हुकुम नारायण यादव भी नयी लोकसभा में दिखाई नहीं देंगे। पिछले चुनाव में दिग्गज कमलनाथ, राम विलास पासवान और पीए संगमा नौवीं बार लोकसभा सदस्य बने थे।

इनमें से संगमा का निधन हो चुका है जबकि कमलनाथ और पासवान इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। आठ बार लोकसभा चुनाव जीत चुके करिया मुंडा और महाजन भी इस बार चुनाव मैदान में नहीं उतरी हैं। बीजेपी ने अपने दो वरिष्ठ सदस्यों लाल कृष्ण आडवाणी और जोशी को टिकट नहीं दिया है। पार्टी 75 वर्ष से अधिक आयु के नेताओं को सक्रिय राजनीति से दूर रखने की अपनी नीति पर चल रही है जिसके अनुरूप कई वरिष्ठ नेताओं ने स्वयं ही चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा कर दी या फिर उन्हें टिकट नहीं मिला।

आडवाणी नवीं, दसवीं और 12वीं से 16वीं लोकसभा तक सात बाद उसके सदस्य रह चुके हैं। पिछली बार वह गांधीनगर से चुनाव जीते थे। इस बार गांधीनगर सीट पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को उम्मीदवार बनाया गया है। जोशी छह बार लोकसभा के सदस्य रहे। पिछला चुनाव वह कानपुर से जीते थे। कमलनाथ मध्य प्रदेश की छिदवाड़ा सीट से लोकसभा का प्रतिनिधित्व करते रहे हैं। वह सातवीं से दसवीं तथा बारहवीं से सोलहवीं लोकसभा के सदस्य रहे।

मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री होने के कारण वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। वह छिदवाड़ा से विधानसभा उपचुनाव लड़ रहे हैं। लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख राम विलास पासवान ने लम्बे समय तक बिहार के हाजीपुर (सु) क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया है। पासवान छठी और सातवीं तथा नौवीं से चौदहवीं एवं सोलहवीं लोकसभा के सदस्य रहे हैं। वह एक बार समस्तीपुर के रोसड़ा लोकसभा क्षेत्र से भी निर्वाचित हुए थे। स्वास्थ्य की वजह से वह इस बार चुनाव नहीं लड़ रहे हैं।

हाजीपुर सीट पर उनके भाई पशुपति कुमार पारस पार्टी के उम्मीदवार हैं। राजनीति की नब्ज पर अच्छी पकड़ रखने वाली भाजपा की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने इस बार चुनाव लड़ने से मना कर दिया है। उन्हें पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया गया है भारती मोदी सरकार में मंत्री हैं। उन्होंने कहा है कि चुनाव नहीं लड़कर वह गंगा की स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरुकता लाने के लिए कार्य करेंगी। भारती ने मध्य प्रदेश की भोपाल और खजुराहो सीट से लोकसभा का प्रतिनिधित्व किया था।

अगली लोकसभा चुनाव में जाहं कई दिग्गज नजर नहीं आएंगे। वहीं कई नेता नौवीं और आठवीं बार लोकसभा में पहुंचने के लिए चुनाव मैदान में हैं। आठ बार लोकसभा सदस्य रहे झारखंड मुक्ति मोर्चा के शिबू सोरेन चुनाव जीते तो वह नौवीं बार लोकसभा पहुंचेगे। वह झारखंड की दुमका सीट से उम्मीदवार हैं। वह सातवीं लोकसभा के अलावा नौवीं से ग्यारहवीं और तेरहवीं से सोलहवीं लोकसभा के सदस्य रहे हैं।

भाजपा की मेनका गांधी और संतोष गंगवार तथा कांग्रेस के के एच मुनियप्पा आठवीं बार लोकसभा सदस्य बनने के प्रयास में हैं। अलग-अलग राजनीतिक दलों से सात बार लोकसभा में प्रतिनिधित्व करने वाली मेनका गांधी इस बार उत्तर प्रदेश में सुल्तानपुर सीट से भाजपा की उम्मीदवार हैं। पिछली बार वह पीलीभीत सीट से भाजपा के टिकट पर ही चुनाव जीती थी। इस बार उनकी सीट बदल गयी है।

सात बार लोकसभा पहुंच चुके गंगवार एक बार फिर बरेली सीट से चुनाव मैदान में हैं। वह नौवीं से चौदहवीं तथा सोलहवीं लोकसभा के सदस्य हैं। समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता मुलायम सिंह यादव भी छह बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं और इस बार भी वह उत्तर प्रदेश में मैनपुरी से चुनाव लड़ रहे हैं। यादव दो सीट से भी लोकसभा चुनाव जीतने में सफल रहे हैं। वह मैनपुरी के अलावा कन्नौज सीट से भी लोकसभा के सदस्य रहे हैं। जनता दल (एस) के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा भी छह बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं और इस बार वह कर्नाटक में तुमकुर लोकसभा सीट से उम्मीदवार हैं।

करीब 85 वर्षीय इस दिग्गज नेता के इस बार लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर पहले संदेह व्यक्त किया जा रहा था लेकिन बाद में उनकी उम्मीदवारी की घोषणा की गई। शिवसेना के अनंत गीते ने भी छह बार लोकसभा का प्रतिनिधित्व किया है और पार्टी ने उन्हें फिर से महाराष्ट्र की रायगढ सीट से उम्मीदवार बनाया है। गीते ग्यारहवीं से सोलहवीं लोकसभा के सदस्य रहे हैं।

गीते ने पिछला चुनाव रायगढ से ही जीता था। पांच बार लोकसभा चुनाव जीतने वालों में भाजपा के योगी आदित्यनाथ, कांतिलाल भूरिया , रामटहल चौधरी , अनंत कुमार हेगड़े , राधा मोहन सिंह , हुक्मदेव नारायण यादव, कांग्रेस के तारिक अनवर , बीजू जनता दल के भर्तृहरि महताब तथा राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव शामिल हैं। योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं।

राजनीति में दोस्ती स्थायी नहीं होती और समीकरण बदलते ही दोस्त दुश्मन बन जाते है...

Indian general election 2019

पटना।राजनीति में दोस्ती स्थायी नहीं होती और समीकरण बदलते ही दोस्त, दुश्मन बन जाते हैं। ऐसा ही नजारा इस बार के लोकसभा चुनाव में बिहार की कुछ सीटों पर देखा जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा ), लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) ने 2014 का चुनाव राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल के रुप में मिलकर चुनाव लड़ा था।

बीजेपी ने 30, लोजपा ने 07 और रालोसपा ने 03 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें भाजपा ने 22, लोजपा ने 06 और रालोसपा ने 03 सीटों पर जीत हासिल की। वहीं जनता दल यूनाइटेड (जदयू ) ने 38 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे जबकि दो सीट बांका और बेगूसराय पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के साथ मिलकर चुनाव लड़ा। जदयू को महज दो सीट पर जीत हासिल हुई।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। राजद ने 27, कांग्रेस ने 12 और राकांपा ने एक उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारे। इनमें राजद को चार, कांग्रेस को दो और राकांपा को एक सीट पर जीत मिली। वहीं, इस बार के लोकसभा चुनाव के समीकरण काफी बदल गए हैं। उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा राजग से टिकट बंटवारे में मतभेद के बाद महागठबंधन में शामिल हो गई वहीं जदयू ने फिर राजग से नाता जोड़ लिया।

राजग की घटक भाजपा 17, जदयू 17 और लोजपा छह सीट पर चुनाव लड़ रही है। वहीं, महागठबंधन में राजद 20, कांग्रेस नौ, रालोसपा पांच, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) तीन और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के खाते में तीन सीट गई है। राजद अपनी एक आरा सीट कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) के लिए छोड़ दी है। इस लोकसभा चुनाव में कुछ सीटें ऐसी है जहां पिछली बार गठबंधन कर चुनाव लड़ रहे राजनीतिक दल इस बार पूर्ण रूप से विरोधी के रूप में नजर आ रहे हैं।

इस बार के चुनाव में सबसे बड़ा उलटफेर भाजपा, रालोसपा और लोजपा के बीच हुआ है। रालोसपा ने पिछले चुनाव में जहां भाजपा और लोजपा की मदद से तीन सीट सीतामढी, काराकाट और जहानाबाद पर चुनाव लड़ा और तीनों सीटें जीती। इस बार रालोसपा पांच सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इनमें तीन सीटों पर रालोसपा की सीधी टक्कर 2014 के पुरानी साथी रही भाजपा और एक सीट पर लोजपा से है। वहीं, एक सीट पर रालोसपा और जदयू में टक्कर है।

रालोसपा की भाजपा और लोजपा से दोस्ती इस बार दुश्मनी में तब्दील हो गई है वहीं राजद और कांग्रेस से उसकी दुश्मनी, दोस्ती में बदल गई है। रालोसपा इस चुनाव में पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, उजियारपुर, काराकाट और जमुई (सुरक्षित) पर चुनाव लड़ रही है। पश्चिम चंपारण से रालोसपा की टिकट पर ब्रजेश कुमार कुशवाहा चुनाव लड़ रहे हैं जहां उनकी टक्कर भाजपा के निवर्तमान सांसद डॉ. संजय जायसवाल से होगी।

पूर्वी चंपारण सीट पर कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह के पुत्र आकाश कुमार सिंह रालोसपा के टिकट पर चुनावी रण में उतर रहे हैं, जिनका मुकाबला भाजपा के दिग्गज नेता और केन्द्रीय मंत्री राधामोहन सिंह से होगा। पश्चिम चंपारण और पूर्वी चंपारण में छठे चरण के तहत 12 मई को मतदान कराए जाएंगे।

रालोसपा सुप्रीमो उपेन्द्र कुशवाहा उजियारपुर और काराकाट दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। उजियारपुर सीट पर जहां उनका मुकाबला भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं निवर्तमान सांसद नित्यानंद राय से होगा वहीं काराकाट सीट पर उनकी टक्कर जदयू उम्मीदवार एवं पूर्व सांसद महाबली सिंह से है।

उजियारपुर सीट पर चौथे चरण में 29 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे वहीं काराकाट सीट पर सातवें तथा अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होगा। जमुई (सु) सीट पर रालोसपा के टिकट पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद भूदेव चौधरी की टक्कर लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के पुत्र और वर्तमान सासंद चिराग पासवान से हो रही है। इस सीट पर प्रथम चरण के तहत 11 अप्रैल को मतदान संपन्न हो चुका है।

कटिहार सीट पर भी इस बार समीकरण बदल गए हैं। वर्तमान सासंद तारिक अनवर इस बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। वर्ष 2014 के चुनाव में तारिक अनवर ने राकांपा की टिकट पर चुनाव लड़ा और भाजपा के निखिल कुमार चौधरी को एक लाख 14 हजार 740 मतों के अंतर से पराजित किया। इस बार के चुनाव में राकांपा ने फिर इस सीट पर अपना प्रत्याशी उतार दिया है।

राकांपा के टिकट पर पूर्व विधायक मोहम्मद शकूर चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं, बिहार सरकार में पूर्व मंत्री दुलालचंद गोस्वामी इस सीट पर जदयू के प्रत्याशी बनाए गए हैं। कटिहार सीट पर दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल को मतदान होगा। देखना दिलचस्प होगा कि दोस्ती और दुश्मनी के इस खेल में रालोसपा को महागठबंधन से दोस्ती और राजग से दुश्मनी कितनी रास आती है।

साध्वी प्रज्ञा भाजपा में शामिल, दे सकतीं हैं भोपाल से दिग्विजय को चुनौती

Sadhvi Pradnya can join BJP, give challenge to Digvijay from Bhopal

भोपाल।मालेगांव विस्फोट मामले में लंबे समय तक कानूनी प्रक्रिया का सामना कर चुकीं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के भारतीय जनता पार्टी में औपचारिक तौर पर शामिल होने के बाद अब उन्हें भोपाल संसदीय क्षेत्र से पार्टी प्रत्याशी घोषित किए जाने की संभावनाएं और प्रबल हो गई हैं।

साध्वी प्रज्ञा आज यहां स्थित पार्टी के प्रदेश कार्यालय भी पहुंची। यहां उनकी पार्टी के कई आला नेताओं से मुलाकात हुई। भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने बताया कि साध्वी प्रज्ञा ने पार्टी की औपचारिक सदस्यता ले ली है। आज वे पार्टी के प्रदेश कार्यालय भी आईं थीं।

समझा जा रहा है कि पार्टी में भोपाल संसदीय सीट से साध्वी प्रज्ञा को अपना प्रत्याशी बनाए जाने पर सहमति बन चुकी है। उनके नाम के ऐलान की औपचारिकता शेष रह गई है। कांग्रेस ने यहां से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को चुनावी मैदान में उतारा है। माना जा रहा है कि भाजपा की ओर से साध्वी प्रज्ञा सिंह को चुनौती देंगी।

कांग्रेस जहां एक ओर प्रदेश की सभी 29 संसदीय सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर चुकी है, वहीं भाजपा की ओर से अभी पांच सीटों भोपाल, इंदौर, विदिशा, सागर और गुना-शिवपुरी पर अपने प्रत्याशियों के नामों की घोषणा बाकी है।

अफगानिस्तान में 20 आतंकवादी ढेर

20 terrorists heap in Afghanistan

काबुल।अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में आतंकवादी संगठन तालिबान के खिलाफ जारी सुरक्षा बलों के अभियान में पिछले 24 घंटे में कम से कम 20 आतंकवादी मारे गये हैं और सुरक्षा बलों ने 21 गांवों पर फिर से नियंत्रण कर लिया है।प्रांतीय सरकार के प्रवक्ता अरिफ नूरी ने बुधवार को बताया कि हासन अबद गांव में सुरक्षा बलों की कार्रवाई में कमांडर काजी हसन सहित नौ आतंकवादी मारे गये। इसके बाद गजनी शहर में कानून व्यवस्था बहाल हो गयी है। उन्होंने बताया कि इस अभियान में कई आतंकवादी घायल हुए है। उन्होंने अभियान में सुरक्षा बलों के हताहत होने के बारे में कोई जानकारी नहीं दी। तालिबानी आतंकवादी समूह ने इस पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है।

लीबिया की राजधानी त्रिपोली में चार की मौत, 23 घायल

Four people die in Libya capital Tripoli, 23 injured

त्रिपोली।लीबिया की राजधानी त्रिपोली में हुए रॉकेट से किये गये हमलों में चार लोग मारे गये तथा 23 अन्य लोग घायल हुए हैं। स्थानी मीडिया ने एक सूत्र के हवाले से यह खबर दी है। लीबिया के ऑब्जर्वर अखबार के अनुसार लीबिया की सेना इस हमले की जिम्मेदार है।उल्लेखनीय है कि लीबिया की राष्ट्रीय सेना के कमांडर फील्ड मार्शल खलीफा हफ्तार ने चार अप्रैल को कथित तौर पर आतंकवादी ताकतों को खदेडऩे के लिए सेना को आगे बढऩे का आदेश दिया। इसके बाद से वहां की राजनीतिक स्थिति नाजुक बनी हुई है।

शाहरुख के साथ डिजिटल डेब्यू करेंगे बॉबी

Bobby will debut digital with Shahrukh

मुंबई।बॉलीवुड अभिनेता बॉबी देओल किंग खान शाहरुख खान के साथ डिजिटल डेब्यू करने जा रहे हैं। बॉबी ने पिछले वर्ष प्रदर्शित सलमान खान की फिल्म रेस-3 में काम किया था। उन्हें अब शाहरुख खान के साथ काम करने का मौका मिल गया है। बताया जा रहा है कि बॉबी जल्द ही शाहरुख के साथ डिजिटल डेब्यू करेंगे। कहा जा रहा है कि बॉबी ने शाहरुख खान की प्रोडक्शन कंपनी रेड चिली एंटरटेनमेंट के साथ एक प्रोजेक्ट साइन किया है। ऐसा पहली बार होगा जब शाहरुख के साथ बॉबी देओल की जोड़ी किसी प्रोजेक्ट के लिए बनेगी। इस फिल्म को शाहरुख खान प्रोड्यूस करेंगे लेकिन दोनों स्टार्स का क्या रोल होगा इसे लेकर अभी कोई खुलासा नहीं किया गया है।

किक 2 में जैकलीन और दिशा के साथ रोमांस करेंगे सलमान!

Salman will romance with jekclin and disha in film Kick 2

मुंबई।बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान फिल्म किक 2 में जैकलीन फर्नांडीस और दिशा पटानी के साथ रोमांस करते नजर आ सकते हैं। बॉलीवुड फिल्मकार साजिद नाडियाडवाला अपनी सुपरहिट फिल्म किक का सीक्वल बनाने जा रहे हैं। सलमान इन दिनों फिल्म भारत और दबंग 3 की शूटिंग में व्यस्त हैं इसलिए यह फिल्म अब तक शुरु नहीं हो पाई है। इस वर्ष के अंत से सलमान;किक 2की शूटिंग शुरू कर सकते हैं। फिलहाल निर्माता साजिद नाडियाडवाला फिल्म की तैयारियों में व्यस्त हैं। स्क्रिप्ट को अंतिम रूप दिया जा रहा है, साथ ही फिल्म की स्टार कास्ट पर भी विचार चल रहा है।

कहा जा रहा है कि किक 2 में दो हीरोइन होंगी। साजिद नाडियाडवाला के जैकलीन फर्नांडीस से बेहतरीन संबंध है इसलिए वह चाहते हैं कि एक हीरोइन के रूप में जैकलीन हों। दूसरी हीरोइन के रूप में दिशा पाटनी का नाम लिया जा रहा है। सलमान के साथ दिशा;भारतमें काम कर रही है और दिशा से सलमान खासे प्रभावित हैं। उन्होंने ही दिशा के नाम की सिफारिश की है। आने वाले दिनों में किक 2 के लिये सलमान की हीरोइनों के नाम की घोषणा हो सकती है।

IPL 2019: आईपीएल में पंजाब की बढ़ी मुश्किले, ये दो स्टार खिलाड़ी हुए चोटिल

IPL 2019: Punjab's increased handicap in IPL, these two star players injured

स्पोटर्स डेस्क।आईपीएल 2019 में मंगलवार को किंग्स इलेवन पंजाब और राजस्थान रॉयल्स के बीच मैच खेला गया। इस मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के मोएसिस हेनरिक्स और मुजीब उर रहमान चोटिल हो गए है। इन दोनों खिलाडियों के चोटिल होने से टीम की मुश्किले बढ़ गई है। दरअसल, मंगलवार को हेनरिक्स को राजस्थान के खिलाफ आईपीएल में डेब्यू करना था। लेकिन मैच से पहले अभ्यास करते समय वे चोटिल हो गए। इसके बाद वे टीम में शामिल नहीं हुए।

आपको बता दें कि मैच के दौरान मुजीब उर रहमान को कंधे में चोट लग गई थी। किंग्स इलेवन पंजाब ने अपने बयान में कहा है कि अभ्यास के दौरान मोएसिस कैच ले रहा था और इस दौरान उसके टखने में चोट लग गई। जबकि मुजीब को मैच के दौरान कंधे में चोट लगी। दोनों के स्कैन के नतीजों का इंतजार किया जा रहा है।

इस मैच को पंजाब ने 12 रन से अपने नाम किया। इस जीत के साथ ही पंजाब ने इस सीजन में अबतक 9 मैचों में 5 मैच जीत लिए है और पॉइंट टेबल में 10 अंको के साथ चौथे नंबर पर है। इससे पहले पंजाब ने पहले खेलते हुए निर्धारित 20 ओवर में 186 रन बनाए। पंजाब की ओर से राहुल ने 52 रन और डेविड मिलर ने 40 रन की शानदार पारी खेली। अंत में कप्तान आर अश्विन ने 4 गेंदों पर 17 रन की तूफानी खेली।

इस लक्ष्य के जवाब में राजस्थान की टीम निर्धारित ओवर में सात विकेट पर 170 रन बना सकी। राजस्थान की तरफ 45 गेंदों पर 50 रन की पारी खेली। तो वहीं अंत में स्टुअर्ट बिन्नी ने 11 गेंदों पर 33 रन की शानदार पारी खेली। लेकिन वे अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके।

विश्व कप टीम में शामिल नहीं होने पर मीडिया के सामने भावुक हुआ यह बांग्लादेशी क्रिकेटर

This Bangladeshi cricketer became emotional in front of the media when the World Cup team was not ready

स्पोटर्स डेस्क।बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने मंगलवार को विश्व कप के लिए टीम का ऐलान किया। बांग्लादेश ने अपने 15 खिलाडियों का ऐलान किया है। विश्व कप टीम में अनुभवी और युवा खिलाडियों का संतुलन देखा जा सकता है। टीम में तेज गेंदबाज तस्किन अहमद को शामिल नहीं किया गया है। विश्व कप टीम में शामिल नहीं करने के बाद अहमद ने बांग्लादेश की मीडिया से बातचीत की। मीडिया से बातचीत करते हुए वे भावुक हो गए और सरेआम उनकी आंखों से आंसू छलक उठे।

आपको बता दें कि तस्किन अहमद ने आंखों में आंसू लिए मीडिया से बातचीत की और इस दौरान उन्होंने मीडिया के सभी सवालों के जवाब भी दिए। हालांकि ऐसा दूसरी बार हुआ है। जब किसी बांग्लादेशी खिलाडी को विश्व कप टीम में शामिल नहीं करने पर वह भावुक हो गया हो।

इससे पहले ​मशरफे मुर्तजा भी भावुक हो चुके है। मुर्तजा को विश्व कप 2015 में टीम में शामिल नहीं किया गया था। लेकिन इस समय मुर्तजा शानदार प्रदर्शन कर रहे है। इसी प्रदर्शन के दम पर वे विश्व कप 2019 की टीम के कप्तान भी है।

विश्व कप के लिए बांग्लादेश की टीम:तमीम इकबाल, लिटन दास, सौम्य सरकार, मुश्फिकुर रहीम, महमुदुल्लाह, शाकिब अल हसन, मशर्फे मुर्तजा (कप्तान), मोहम्मद मिथुन, शब्बीर रहमान, मोसाद्देक हुसैन, मोहम्मद सैफुद्दीन, मेंहदी हसन, रुबेल हुसैन, मुस्ताफिजुर रहमान और अबु जायेद।

अडाणी ने किया ऑस्ट्रेलिया से कोयला खदान परियोजना को न्यायपूर्ण तरीके से आगे बढ़ने देने का आग्रह

Adani urges Australia to allow coal mine project to proceed with fairness

मेलबर्न।भारत की ऊर्ज़ा क्षेत्र की प्रमुख कंपनी अडाणी ने ऑस्ट्रेलिया की सरकार से उसकी विवादित कोयला खान परियोजना को न्यायपूर्ण तरीके से आगे बढ़ने देने का आग्रह किया है। उसने साथ ही संकेत दिया है कि विपक्षी पार्टी सत्ता में आने के बाद अरबों डॉलर की प्रस्तावित परियोजना को पटरी से नहीं उतरने देगी। गौतम अडाणी की अगुवाई वाले अडाणी समूह ने मध्य क्वींसलैंड के गैलिल बेसिन में कारमाइकल कोयला खदान को खरीदकर ऑस्ट्रेलियाई बाजार में कदम रखा था।

क्वींसलैंड में यह बड़ी कोयला खदान विवादित विषय रही है। इस परियोजना के जरिए 2.3 अरब टन कम गुणवत्ता के कोयला के उत्पादन की उम्मीद है। अडाणी माइनिग के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) लुकास डो ने ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन से कहा कि हम सभी सिर्फ इतना चाहते हैं कि न्यायपूर्ण तरीके से विचार किया जाए और अन्य मामले की तरह ही इस पर विचार किया जाए।

मुझे लगता है कि कुछ बिन्दुओं पर ऐसा नहीं हुआ है। वास्तव में हम इस चीज की शिकायत नहीं कर रहे हैं, लेकिन बस इतना चाहते हैं कि अब इसे न्यायपूर्ण तरीके से आगे बढ़ने दिया जाए। उल्लेखनीय है कि अडाणी की परियोजना को क्वींसलैंड सरकार से अब भी कुछ चीजों की मंजूरी नहीं मिली है। इसमें ग्राउंडवाटर मॉडलिग भी शामिल है।




from National - samacharjagat.com
आगे पढ़े -समचरजगत

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here