मंगलवार मयंक के लिए लेकर आया दोहरी खुशी, ईरानी ट्रॉफी में शानदार बल्‍लेबाजी के बाद मिली बड़े करार की सूचना - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

मंगलवार मयंक के लिए लेकर आया दोहरी खुशी, ईरानी ट्रॉफी में शानदार बल्‍लेबाजी के बाद मिली बड़े करार की सूचना

Share This

नई दिल्ली : मंगलवार का दिन मयंक अग्रवाल के लिए दोहरी खुशी का रहा। पहले उन्‍होंने ईरानी ट्रॉफी में शेष भारत की तरफ से खेलते हुए बल्‍लेबाजी के लिए मुश्किल विकेट पर 95 रन बना कर अपनी टीम शेष भारत को सम्‍मानजनक स्‍कोर तक पहुंचाया और उसके बाद टायर निर्माता कंपनी सीएट लिमिटेड का यह बयान सामने आया कि इस भारतीय टेस्ट क्रिकेटर के साथ उसका करार हुआ है।

रोहित के क्‍लब में हुए शामिल
सीएट के साथ करार करने के साथ ही मयंक इस मामले में रोहित शर्मा की बराबरी पर पहुंच गए। उनका भी करार इस कंपनी के साथ है। अब मयंक अब क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में सीएट के लोगो वाले बल्ले के साथ खेलते नजर आएंगे। मयंक और रोहित के अलावा अजिंक्य रहाणे, इशान किशन, शुभमन गिल और महिला क्रिकेट टीम की टी-20 कप्तान हरमनप्रीत कौर भी इस कंपनी से जुड़ी हुई हैं।

पिछले कुछ सालों से कर रहे हैं लगातार अच्‍छा प्रदर्शन
2010 में अंडर-19 विश्व कप में भारत के लिए सर्वोच्च स्कोरर रहे मयंक ने 2017-18 रणजी सीजन में शानदार प्रदर्शन किया था। उन्होंने पूरे सत्र में 1000 से अधिक रन बनाए थे। इसी का ईनाम उन्‍हें आस्‍ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए टेस्‍ट सीरीज में टीम इंडिया में शामिल होकर मिला। अपने पदार्पण मैच में भी उनका शानदार प्रदर्शन जारी रहा। पहली पारी में 76 रन बनाए थे, जो आस्ट्रेलिया में किसी भी भारतीय क्रिकेट का पदार्पण मैच में सर्वोच्च स्कोर है।

मयंक ने जताई खुशी
मयंक ने सीएट से जुड़ने पर खुशी जताई। उन्‍होंने कहा कि सीएट के साथ जुड़ने पर उन्‍हें गर्व है। मैदान के अंदर और बाहर, एक ब्रांड के रूप में इसका प्रतिनिधित्व करना उनके लिए सम्मान की बात है। सीएट में प्रतिभाशाली और सफल क्रिकेटरों के ग्रुप में शामिल होने का यह एहसास उन्‍हें गौरवान्वित कराता है तो जिम्मदारियों का भी। सीएट के प्रबंध संचालक अनंत गोयनका ने भी प्रतिभाशाली क्रिकेटर मयंक अग्रवाल के साथ जुड़ने पर खुशी जताई। उन्‍होंने कहा कि मयंक में भारतीय क्रिकेट में एक बड़ा खिलाड़ी बनने के सभी गुण मौजूद हैं।




from Patrika : India's Leading Hindi News Portal
आगे पढ़े --पत्रिका

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here