बिहार: पुलिस ने किया जाली नोट छापने वाले रैकेट का भांडाफोड़, डॉक्टर दंपती गिरफ्तार - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

बिहार: पुलिस ने किया जाली नोट छापने वाले रैकेट का भांडाफोड़, डॉक्टर दंपती गिरफ्तार

Share This

नई दिल्ली। बिहार के भोजपुर जिले से बड़ा मामला सामने आया है। यहां के संदेश थानाक्षेत्र के जमुआंव गांव से एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार नागेन्द्र सिंह यादव पेशे से डॉक्टर हैं और स्थानीय स्तर पर रहकर लोगों का इलाज करते हैं। वहीं, उनकी पत्नी देवंती घर में जाली नोट छापने का काम करती थी। चौंकाने वाली बात यह है कि नकली नोटों का यह कारोबार लगभग तीन महीने से चल रहा था। पुलिस सूत्रों से सामने आया है कि देशद्रोह के इस काम में डॉक्टर नागेन्द्र भी अपनी पत्नी की खुलकर मदद करते थे।

बहुएं उसका इस काम में सहयोग करती थीं

सदर एसडीपीओ पंकज कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि जाली नोट छापने की जिम्मेदारी देवंती की होती थी, जबकि उसकी दोनों बहुएं नेहा देवी व रेखा देवी उसका इस काम में सहयोग करती थीं। जानकारी के अनुसार नागेन्द्र सिंह का बड़ा बेटा राहुल सिंह यादव भी आरा मंडल जेल में सजा काट रहा है, जबकि छोटा बेटा लक्ष्मण गुजरात में एक निजी कंपनी में काम करता है। थोड़े समय में ही बड़ी आमदनी के लालच के चलते नागेंद्र की पत्नी ने बेटे व दोनों बहुओं को भी इस काम में शामिल कर लिया। पुलिस का कहना है कि आरोपियों को रिमांड पर लेकर पूछताछ की तैयारी की जा रही है।

2 हजार रुपये नकद के अलावा दो मशीन बरामद

आपको बता दें कि नागेंद्र का बेटा राहुल कुमार लूटपाट व छिनैती मामले को लेकर आरा जेल सजा काट रहा है। बताया जा रहा है कि राहुल की जान पहचान उदवंतनगर थाना के रघुनीपुर गांव निवासी पिंटू सिंह से हुई तो उन्होंने जाली नोट छापने का धंध शुरू कर दिया। जाली नोट छापने के इस रैकेट के दूसरे सरगना पिंटू सिंह ने ही नागेन्द्र की पत्नी देवांती को नोट छापने की प्रशिक्षण दिया था। जबकि नोटों का ऑर्डर लाने काम भी पिंटू ही करता था। पुलिस ने इस रैकेट का भांडाफोड़ करते हुए करीब 32 हजार रुपये नकद के अलावा दो मशीन भी बरामद की हैं।




from Patrika : India's Leading Hindi News Portal
आगे पढ़े ----पत्रिका

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here