गठबंधन के नतीजे एक-पक्षीय बहुमत के विपरीत परिणाम देते हैं: महबूबा - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

गठबंधन के नतीजे एक-पक्षीय बहुमत के विपरीत परिणाम देते हैं: महबूबा

Share This

श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने केंद्र में भाजपा सरकार का हवाला देते हुए मंगलवार को कहा कि केंद्र में गठबंधन की सरकारें एकल-पार्टी की बहुमत वाली सरकार से बेहतर परिणाम देती हैं। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष, नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) के नेता उमर अब्दुल्ला के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रही थीं, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लोगों से किसी एक पार्टी को स्पष्ट जनादेश देने की अपील की थी।

महबूबा ने ट्वीट किया, राज्य में नेशनल कांफ्रेंस को प्रचंड बहुत मिला था, विधानसभा में उसकी 60 सीटें थी । पार्टी ने पावर हाउस बेच दिये और इखवान, टास्क फोर्स और पोटा लेकर आयी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे पहले भी जब नेकां के पास पूर्ण बहुमत था तब अयोग्य राजनीतिक जनादेश ने राज्य की शक्तियां केंद्र को सौंप दी थी।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में उनके पिता मुफ्ती मोहम्मद सईद की अगुवाई में गठबंधन सरकार ने उपलब्धियों की नयी उंचाइयों को छुआ । इस दौरान नियंत्रण रेखा के आगे की सडक़ों को खोलना शामिल है। यह आजादी के बाद एकमात्र राजनीतिक उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी के बाद के दौर में, गठबंधन सरकारों ने एकल पार्टी के शासन की तुलना में बेहतर परिणाम दिए।

उन्होंने कहा राष्ट्रीय स्तर पर भी लगता है कि इंदिरा गांधी के बाद के दौर में, गठबंधन सरकारों ने बहुमत वाले पार्टी शासन की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है। इनमें वाजपेयी गठबंधन, तथा मौजूदा भाजपा की एकल पार्टी के शासन की तुलना में संप्रग एक का शासन शामिल है। उन्होंने ट्वीट में कहा, नरसिम्ह राव की अल्पमत की सरकार को याद करिए जिसने देश को सबसे खराब आर्थिक संकट के दौर से निकाला और आर्थिक उदारीकरण की शुरूआत की।

सोमवार को जम्मू में एक समारोह में उमर ने कहा था कि गठबंधन के प्रयोग ने जम्मू कश्मीर में अच्छी तरह से काम नहीं किया। उन्होंने कहा था लोगों के सामने आने वाली समस्याओं और चुनौतियों को देखते हुए, मैं चाहता हूं कि राज्य के लोग जम्मू-कश्मीर में एक ही पार्टी की सरकार का चुनाव करें।

हालाँकि, महबूबा सरकार में वित्त मंत्री रहे अल्ताफ बुखारी ने राज्य में एक पार्टी के शासन की वापसी के लिए उमर के आह्वान का समर्थन किया। बुखारी अब पीडीपी के साथ नहीं हैं। बुखारी ने एक बयान में कहा, मैं व्यक्तिगत रूप से मानता हूं कि गठबंधन की राजनीति के कारण कश्मीर को बहुत नुकसान हुआ है जो 2002 से शुरू हुआ था। आने वाले विधानसभा चुनावों के परिणाम का राज्य में स्थिरता और सर्वांगीण विकास पर बहुत असर पड़ेगा। एजेंसी




from Politics - samacharjagat.com
आगे पढ़े -समचरजगत

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here