भारत में 5G आया तो सबसे ज्यादा इन लोगों को होगा नुकसान, इस दिन हो रहा लॉन्च - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

भारत में 5G आया तो सबसे ज्यादा इन लोगों को होगा नुकसान, इस दिन हो रहा लॉन्च

Share This

नई दिल्ली: अगले साल (2019) यानी नए साल पर 5जी सिम लॉन्च होने वाला है, जिसका यूजर्स को काफी लंबे समय से इंतजार कर रहे है। यही वजह है कि मुकेश अंबानी ने 5G की टेस्टिंग शुरू कर दी है ताकि यूजर्स को जल्द से जल्द 5जी की सेवा दिया जा सके। इस बीच खबर यह भी आ रही है कि अगर 5G नेटवर्क आता है तो उससे निकलने वाले रेडिएशन से पक्षियों की जान ले लेंगे।

5G इस दिनो होगा लॉन्च

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस सिम की शुरुआती कीमत 20 रुपये है। इसमें यूजर्स को अनलिमिडेट कॉलिंग, 5G हाई स्पीड समेत सब कुछ 3 महीने के लिए फ्री में मिलेगा। रिपोर्ट की माने तो इस सिम को अगले साल पेश किया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक चीन में 5G को 2019 में लॉन्च किया जाएगा, जबकि भारत में इसे 2020 में पेश किया जाएगा।

माना जा रहा है कि 5G की स्पीड 4G सर्विस से 15 गुना ज्यादा होगी और यूजर्स को 2.5 GBPS स्पीड से डाटा दिया जाएगा। गौरतलब है कि यूजर्स इस समय 4G सर्विस का लुत्फ उठा रहे हैं और 5G के आने का इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में ये खबर जियो यूजर्स के लिए किसी बड़ी खुशखबरी से कम नहीं होगी। बता दें कि 2016 में जियो के 4G सर्विस को पेश किया गया था, जिसमें कंपनी ने अपने यूजर्स को तीन महीने के लिए अनलिमिटेड कॉल, मैसेज और डाटा समेत सब कुछ फ्री दिया था।

5,799 रुपये में खरीदें Redmi Note 5 Pro, जानिए अन्य ऑफर्स

5G से होने वाले नुकसान

हाल ही में नीदरलैंड में 5जी सर्विस की टेस्टिंग होने के दौरान करीब 300 पक्षियों की मौत हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक 5G की टेस्टिंग के दौरान आस-पास के पेड़ों से गिरने लगे और इस दौरान उनकी मौत हो गई। ऐसे में सवाल यह उठाता है कि भारत में 2019 की पहली तिमाही में नई दिल्ली में 5G नेटवर्क का ट्रायल होने जा रहा है। ऐसे में पक्षियों की सुरक्षा के लिए सरकार क्या करेगी। हालांकि देश को बढ़ती तकनीक से जोड़ना जरूरी है, लेकिन रेडिशन की वजह से अगर पक्षियों की जान जा सकती है तो मनुष्यों पर इसका कितना गहरा असर पड़ेगा। यह एक गंभीर मुद्दा बनता सकता है।

प्रेग्नेंट लेडी को होगी दिक्कत

मोबाइल का इस्तेमाल करना कितना हानिकारक है यह बताने की जरूरत नहीं है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान मोबाइल से निकलने वाले रेडिएशन महिलाओं के साथ-साथ शि‍शु के मस्तिष्क को भी प्रभावित करता है। ऐसे में इसके इस्तेमाल से बचना जरूरी है।

कैंसर का बढ़ेगा खतरा

ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि कई अध्ययनों में इस बात की पुष्टि‍ की गयी है। बता दें कि मोबाइल के ज्यादा यूज से मानसिक बीमारी, कान बजना, जोड़ों में दर्द,समेत कई दिक्कते शुरू हो जाती है। इसके अलावा इससे निकलने वाले रेडिएशन से कैंसर, बीपी और हृदय रोग जैसी समस्याएं भी पैदा होने लगती है।




from Patrika : India's Leading Hindi News Portal
आगे पढ़े -पत्रिका

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here