इंडोनेशिया में सुनामी: मरने वालों की संख्या 281 हुई, आंकड़ा बढ़ने की आशंका बरकरार - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

इंडोनेशिया में सुनामी: मरने वालों की संख्या 281 हुई, आंकड़ा बढ़ने की आशंका बरकरार

Share This

जकार्ता। इंडोनेशिया के पश्चिमी जावा और सुमात्रा द्बीप के मध्य सुंड़ा जल संधि क्षेत्र में शनिवार रात भयंकर सुनामी के कारण कम से कम 281 लोगों की मौत हो गई है और 1016 से अधिक लोग घायल हैैं। इस आपदा में 611 मकान नष्ट हो गए तथा 69 होटल, 60 दुुकानें और 420 नौकाएं तबाह हो गई हैं।

इंडोनेशिया अभी भूकंप की त्रासदी से उबर भी नहीं पाया था कि दो दिन पहले आई सुनामी ने देश को एक और झटका दे दिया है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के मुताबिक सुनामी रात नौ बजकर 27 मिनट पर आई और इसकी चपेट में आकर सुंड़ा क्षेत्र के अलावा बांटेन प्रांत के पांडेंगलांग तथा सेरांग जिले आ गए।

लांपुंग प्रांत का लांपुुंग जिला भी सुनामी की चपेट में आया है। इसका कारण अनाक कराकाटुु ज्वालामुखी में हुए जोरदार विस्फोट के बाद समुद्र तल की चट्टानों के खिसकने के बाद पानी में मची हलचल मानी जा रही है जिसने बाद में जानलेवा सुनामी का रूप ले लिया। बताया जा रहा है कि पानी की लहरेंं लगभग 20 मिनट ऊंची थी।

इंडोनेशिया के पांडेंगलांग जिले के आपातकालीन सेवा विभाग के प्रमुख एनडेंग पेरमाना ने बताया कि सुनामी की लहरें जिले में काफी ऊंची थी जिसके कारण 17 लोगों की मौत हो गयी और बड़ी संख्या में लोग लापता हो गए। घायलों में 40 की हालत गंभीर बनी हुई है। पेरमाना ने बताया कि तटीय क्षेत्र पर एक कार्यक्रम देख रहे कई लोग सुनामी की लहरों में बह गए।

लामपुंग सेलातन जिले के आपदा प्रबंधन विभाग के प्रमुख केतुत सुकेर्ता ने बताया कि क्षतिग्रस्त इमारतों के मलबे के नीचे लापता लोगों की तलाश की जा रही है। सुनामी से गंभीर रूप से प्रभावित होने वाले क्षेत्रों में तंजुंग लेसुंग बीच, सुमुर बीच, तेलुक लाडा बीच, पनिमबंग बीच और कैरिता बीच हैं। ये सभी क्षेत्र पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

अनाक ज्वालामुखी पिछले कुछ महीनों के दौरान काफी सक्रिय हुआ है। गत शुक्रवार को ज्वालामुखी से दो मिनट और 12 सेकेंड तक लावा निकला था। ज्वालामुखी से निकले लावे की राख 400 मीटर ऊंचाई तक गई थी। इसके बाद समुद्र में चट्टानों के खिसकनेे कारण पानी में जोरदार हलचल मच गई थी।

शनिवार को पूर्णिमा होने के कारण भी सुनामी की लहरें काफी ऊंची थीं। इससे पहले सितंबर महीने में इंडोनेशिया में आए शक्तिशाली भूकंप के कारण दो हजार से अधिक लोगों की मौत हो गयी थी। गौरतलब है कि 26 दिसंबर 2004 को हिद महासागर में आए शक्तिशाली भूकंप के कारण आई सुनामी से इंडोनेशिया समेत कुल 14 देशों में भारी तबाही हुई थी, जिसमें 228,000 लोगों की मौत हुई थी।




from International - samacharjagat.com
आगे पढ़े -समचरजगत

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here