अनुप्रिया बोलीं, मरणोपरांत अंगदान को बढ़ावा देने की जरूरत  - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

अनुप्रिया बोलीं, मरणोपरांत अंगदान को बढ़ावा देने की जरूरत 

Share This

नई दिल्ली। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने अंगदान को परमात्मा जैसा कृत्य बताते हुए मंगलवार को कहा कि देश में मरणोपरांत अंगदान को बढ़ावा देने की जरूरत है। पटेल ने नवें भारतीय अंगदान दिवस पर राष्ट्रीय अंग एवं कोशिशक प्रत्यारोपण संगठन द्बारा यहां आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि तर्क एवं औचित्य के ­दृष्टिकोण से जीवनदान से बढ़कर कोई दान नहीं है और प्रकार अंगदान परमात्मा जैसा कृत्य है।

उन्होंने कहा कि अंग प्रत्यारोपण के लिए हम मुख्यत: जीवत अंगदाताओं पर निर्भर हैं। देश में मात्र 23 प्रतिशत प्रत्यारोपित अंग की मरणोपरांत अंगदान से प्राप्त होते हैं। मरने के बाद अंगदान को बढ़ावा दिए जाने की जरूरत है क्योंकि इससे अंगों की खरीद-फरोख्त और जीवित अंगदाता के स्वास्थ्य को होने वाले जोखिम को समाप्त किया जा सकेगा।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि अंगदान को बढ़ावा देने के लिए जन भागीदारी और जागरूकता जरूरी है। अंगदान को लेकर कई तरह के मिथक और गलत धारणाएं हैं। अधिकतर मौकों पर अंधविश्वास के कारण अंगदान को हतोत्साहित किया जाता है।

उन्होंने लोगों से बिना किसी भय के अंगदान करने के लिए आगे आने की अपील की। चौबे ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को अंगदान की शपथ भी दिलाई। इस मौके पर तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री सी. विजय भास्कर, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन, अतिरिक्त सचिव डॉ. आरके वत्स और स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक डॉ. एस. वेंकटेश भी मौजूद थे।




from National - samacharjagat.com
आगे पढ़े -समचरजगत

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here