पीएसएलवी-सी 43 के प्रक्षेपण के लिए उल्टी गिनती बुधवार को होगी शुरू - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

पीएसएलवी-सी 43 के प्रक्षेपण के लिए उल्टी गिनती बुधवार को होगी शुरू

Share This

चेन्नई। आंध्र प्रदेश में श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र एसएचएआर से पीएसएलवी-सी43/एचवाईएसआईएस के प्रक्षेपण के लिए 28 घंटे की उल्टी गिनती बुधवार सुबह 05:57 बजे शुरू होगी।

पीएसएलवी कोर के अपने 13वें मिशन में रॉकेट पृथ्वी के अवलोकन के लिए हाइपर स्पेट्रल इमेजिग उपग्रह (एचवाईएसआईएस) और इसके साथ 23 अमेरिकी सहित आठ देशों के 30 उपग्रहों को 29 नवंबर को 09:57 बजे प्रथम लॉन्च पैड से जाने के बाद दो विभिन्न कक्षाओं में स्थापित करेगा।

यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) का तीसरा सबसे लंबा मिशन होगा और 113 मिनट में समाप्त होगा। इसरो के सूत्रों ने बताया कि रॉकेट के चौथे चरण के इंजन को दोबारा शुरू करके उपग्रहों को दो कक्षाओं में स्थापित किया जाएगा।

पीएसएलवी-सी 43 लॉन्च होने के लगभग 17 मिनट बाद सबसे पहले भूमध्य रेखा से 97.957 डिग्री के झुकाव के साथ 636 किलोमीटर की पोलर सन सिक्रोनस कक्षा में एचवीआईएसआईएस को उतारेगा। बाद में, लॉन्च होने के एक घंटे बाद दो इंजन दोबारा शुरू होंगे और फिर 47 मिनट बाद सभी उपग्रहों को निचली कक्षा में रखेंगे।

यह एसएचएआर रेंज से 68वांं प्रक्षेपण यान मिशन है और चार चरण वाले पीएसएलवी रॉकेट की 45वीं उड़ान है। इसके अलावा यह प्रथम लॉन्च पैड से 34वां लॉन्च और वर्ष 2018 का छठा लॉन्च होगा जो कि एक रिकॉर्ड है।

इस उपग्रह से कृषि, वन्य, भूगर्भीय पर्यावरण, तटीय क्षेत्रों और अंतर्देशीय जल आदि में अनुप्रयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला की जानकारी ली जाएगी। उपग्रह के मिशन का कार्यकाल पांच साल का है। सभी 30 उपग्रहों का वजन 261.5 किलोग्राम है। इनमें ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, कोलांबिया, फिनलैंड, मलेशिया, नीदललैंड एवं स्पेन से एक-एक और अमेरिका के 23 उपग्रह शामिल हैं।




from National - samacharjagat.com
आगे पढ़े -समचरजगत

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here