27 नवंबर : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें - social Gyan

Post Top Ad

Responsive Ads Here

27 नवंबर : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Share This

भाजपा का राजस्थान गौरव संकल्प-2018 जारी, जेटली ने कांग्रेस पर जमकर किया प्रहार

BJP's issued Rajasthan Gaurav Sankalp-2018

जयपुर।राजस्थान विधानसभा को लेकर भाजपा ने मंगलवार को अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया। केन्द्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र जारी किया। इस दौरान केन्द्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने अल्पसंख्यक धार्मिक स्थलों को मुफ्त बिजली तथा अन्य सुविधाएं देने का कड़ा विरोध करते हुए कहा कि यह समाज को बांटने वाली राजनीति है। जेटली ने आज यहां भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र ;राजस्थान गौरव संकल्प-2018 को जारी करने के अवसर पर एक पत्रकार द्वारा तेंलगाना में कांग्रेस के घोषणा पत्र में अल्प संख्यकों के लिए किए वायदों के बारे में पूछे प्रश्न पर उन्होंने कहा कि यह गलत है तथा भारतीय जनता पार्टी इसके खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि संविधान के अनुसार कोई राजनीतिक दल धार्मिक आधार पर सुविधाएं देने का वादा नहीं कर सकता है लेकिन कांग्रेस ऐसा कर समाज को बांटना चाहती है। देश में बेरोजगारी की समस्या का जिक्र करते हुए उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि इसे वे लोग मुददा बना रहे है जो लोग 70 साल सरकार में रहे और जिन्होंने इस समस्या को पैदा किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस वर्ष 1971 में गरीब हटाओं का नारा दिया था लेकिन आज तक देश से गरीबी दूर नहीं की जा सकी। बल्कि गरीब को मिटाने का प्रयास किया गया। जीएसटी को लेकर कांग्रेस द्वारा मुददा बनाने के बारे में जेटली ने कहा कि यह अर्थ व्यवस्था के लिए अच्छा कदम है तथा कर चोरी करने वाले पकड़ में आए है।

इसके अलावा तीन सौ अधिक जरुरी वस्तुओं पर अनाश्यक कर भार को कम किया गया है और इनका कर का दायरा 30 प्रतिशत से घटकर 12 से 18 प्रतिशत रह गया है। आयकर रिटर्न दाखिल करने वाले और कर चुकाने वालों की संख्या भी बढक़र दुगनी हो गई है। राज्य में कांग्रेस द्वारा मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित नहीं किए जाने पर जेटली ने कहा कि कांग्रेस छह छह मुख्यमंत्रियों के नाम उछाल रही है ताकि समाज के सभी वर्गों को भ्रम में रखकर उनके वोट हासिल किए जो सके। जबकि भाजपा समाज में सभी वर्गों का समान रुप से विकास चाहती है। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल, प्रकाश जावड़ेकर, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, भाजपा प्रवक्ता सुधांशु चतुर्वेदी और औंकार सिंह लखावत मौजूद थे।

घोषणा पत्र में ये भी रहा शामिल

बेरोजगारों को 5 हजार रुपए भत्ता ।

किसानों की आय दोगुनी करने का वादा।

गांवों के लिए 250 करोड़ का स्टार्ट अप फंड।

हर जिले में योग भवन बनाएंगे।

50 लाख नौकरियों का वादा।

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव: 2907 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला कल

Voting tomorrow for Madhya Pradesh assembly elections

भोपाल।मध्यप्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों पर बुधवार 28 नवंबर को कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान होगा। बुधवार को होने वाले मतदान के लिए निर्वाचन आयोग की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। मतदान सुबह आठ बजे से पांच बजे तक होगा और पांच करोड़ तीन लाख से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर सकेंगे। नक्सल प्रभावित बालाघाट के तीन इलाकों में मतदान सुबह सात बजे से दोपहर तीन बजे तक चलेगा।

राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बी एल कांताराव ने बताया कि निर्वाचन आयोग राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से मतदान कराने के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए सभी व्यवस्थाएं पूरी की जा चुकी हैं। मतदान केंद्रों तक मतदान दल पहुंचाने का कार्य शुरू हो गया है। राज्य के पांच करोड़, तीन लाख 94 हजार 086 मतदाता इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के जरिए अपना मताधिकार का उपयोग कर सकेंगे। ये मतदाता चुनाव मैदान में मौजूदा 2907 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेंगे।

मतदाताओं में दो करोड़ 62 लाख 56 हजार 157 पुरूष और दो करोड़ 40 लाख 76 हजार 693 महिलाएं शामिल हैं। सर्विस वोटर की संख्या 59 हजार 826 है और एक हजार से अधिक मतदाता थर्ड जेंडर के हैं। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक चुनाव के लिए सभी 65 हजार 367 मतदान केन्द्रों पर ईवीएम के साथ वीवीपैट का उपयोग होगा। मशीन खराब होने पर उसे तुरन्त बदलने के लिए सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट के पास मशीनें रिजर्व भी रखी गई हैं। वास्तविक मतदान कराने के पूर्व नोटा सहित सभी अभ्यर्थी के समक्ष का बटन दबाकर मॉकपोल किया जाएगा। मॉकपोल की स्लिप को काले लिफाफे में सील कर प्लास्टिक बॉक्स में रखकर पिंक पेपर सील कर मॉकपोल सर्टिफिकेट जारी होगा। सभी केंद्रो पर तीन लाख 782 मतदान कर्मचारी लगाए गए हैं। नियुक्त किए गए कर्मचारियों में दो लाख 54 हजार 878 पुरूष और 45 हजार 904 महिला कर्मचारी हैं। इसमें से तीन हजार 46 मतदान केन्द्र महिला कर्मियों द्वारा संचालित किए जाएंगे, जबकि 160 पीडब्ल्यूडी बूथ दिव्यांग कर्मचारियों द्वारा संचालित किए जाएंगे। संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर वेबकास्टिंग एवं सीसीटीवी की व्यवस्था की गई है।

उल्लेखनीय है कि वेबकाभस्टग के माध्यम से 6 हजार 655 मतदान केन्द्रों पर लाइव प्रसारण और 6 हजार 400 मतदान केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरा से विशेष निगरानी की व्यवस्था की गई है। इस कार्य के लिए प्रत्येक मतदान केन्द्र पर एक अतिरिक्त व्यक्ति भी नियुक्त किया गया है। प्रदेश में निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव के लिए 12 हजार 363 माईक्रो आब्जर्वर की तैनाती मतदान केन्द्रों पर की गई है, जिसमें 12 हजार 211 पुरुष एवं 152 महिला माईक्रो आब्जर्वर हैं। निर्वाचन आयोग ने शत-प्रतिशत मतदान सुनिश्चित करने के लिए कई प्रयास किए हैं। स्थान-स्थान पर एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर की जा रही गतिविधियों और होर्डिंग के माध्यम से भी मतदाताओं को जागरुक किया जा रहा है।

कमलनाथ ने जताया भरोसा यहां 140 से अधिक सीटों पर जीतेगी कांग्रेस

Kamal Nath trusts, Congress to win over 140 seats in Madhya Pradesh assembly elections

भोपाल।कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने विश्वास जताते हुए कहा है कि राज्य विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी की जीत सुनिश्चित है और कांग्रेस 140 से अधिक सीट हासिल करेगी। राज्य की सभी 230 सीटों के लिए सोमवार शाम चुनाव प्रचार अभियान की समाप्ति के बाद अपने गृहनगर छिंंदवाड़ा पहुंचकर चुनाव संबंधी गतिविधियों पर नजर रख रहे कमलनाथ ने एक समाचार एजेंसी को से कहा है कि हमें पूरा विश्वास है कि हम स्पष्ट बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे और 140 से अधिक सीटों पर विजयी होंगेे।

राज्य में बुधवार को मतदान के एक दिन पहले कमलनाथ ने सभी मतदाताओं से वोट करने की अपील करते हुए कहा कि वे बदलाव के लिए अपने मताधिकार का उपयोग करें और किसी तरह के भ्रम में नहीं आएं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि राज्य में 15 वर्षों के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासनकाल से सभी लोग परेशान हो गए हैं।

उन्होंने अपने राजनैतिक जीवन में महिला, किसान, श्रमिक, युवा, गरीब और प्रत्येक वर्ग को इतना अधिक परेशान कभी नहीं देखा। भाजपा ने सिर्फ कलाकारी की राजनीति की है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि अब जनता भ्रमित नहीं होगी और राज्य में बेहतर सरकार चुनने के लिए वोट डालेगी। कमलनाथ ने कहा कि पार्टी ने अपने वचनपत्र में जो भी वचन दिए हैं, उन्हें एक-एक कर पूरा किया जाएगा। वचन के अनुरूप किसानों का ऋण दस दिनों में माफ कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र राज्य की अर्थव्यवस्था का आधार है। लगभग सत्तर प्रतिशत आबादी कृषि या इससे जुड़े व्यवसायों पर निर्भर है। राज्य में सभी 230 सीटों के लिए बुधवार को मतदान होगा। भाजपा लगातार चौथी बार सत्ता में आने के लिए प्रयास कर रही है तो वहीं कांग्रेस ने भी इस बार सत्ता में वापसी के लिए पूरी कोशिश की है।

इज़राइल ने पाकिस्तान से 26/11 के साजिशकर्ताओं को न्याय के दायरे में लाने की अपील की

Israel urges Pakistan to bring 26/11 terrorists to justice

तेल अवीव।इज़राइल ने मुम्बई के 26/11 हमले के 10 साल पूरे होने पर पाकिस्तान से पूर्ण न्याय सुनिश्चित करने की अपील की है। हमले में मारे गए 166 लोगों में छह इज़राइली नागरिक भी शामिल थे। सोमवार को यहां भारतीय मिशन में आयोजित प्रार्थना सभा के दौरान इज़राइल के विदेश मंत्रालय में दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया विभाग के निदेशक माइकल रोनेन ने इस बात पर जोर दिया कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय, विशेषकर पाकिस्तान सुनिश्चित करे कि इस घातक हमले के साजिशकर्ता और उनकी मदद करने वाले बच ना पाएं।

रोनेन ने कहा कि पीड़ितों और उनके परिवार वालों को पूरा न्याय दिलाना बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने पाकिस्तान सरकार सहित सभी सरकारों से अपील की कि साजिशकर्ताओं और उनकी मदद करने वालों को न्याय के दायरे में लाया जाए , उल्लेखनीय है कि 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुम्बई को बम विस्फोटों और गोलीबारी से दहला दिया था। इस आतंकी हमले में 166 लोग मारे गए थे और 300 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। यह हमला 29 नवम्बर 2008 तक चला था। इसमें नौ आतंकवादी भी मारे गए थे और जिदा पकड़े गए आतंकवादी कसाब को बाद में फांसी दी गई थी।

मुंबई आतंकवादी हमले में न्याय पाने की भारत की इच्छा के साथ खड़ा है अमेरिका : ट्रंप

Mumbai terrorists stand with India's desire to get justice in the attack America: Trump

वाशिंगटन।अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि मुंबई आतंकवादी हमले की 10 वीं बरसी पर अमेरिका इस मामले में न्याय पाने की भारत की इच्छा के साथ खड़ा है। ट्रंप ने ट्वीट किया, मुंबई आतंकवादी हमले की 10 वीं बरसी पर अमेरिका इस मामले में न्याय पाने की भारत की जनता की इच्छा के साथ खड़ा है। उन्होंने कहा, इस हमले में छह अमेरिकियों सहित 166 निर्दोष लोग मारे गए थे। हम आतंकवादियों को कभी जीतने या जीत के करीब नहीं आने देंगे।

इन हमलों में अपने पति और 13 साल की बच्ची को गंवाने वाली महिला किआ चेर ने ट्वीट के लिए राष्ट्रपति का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा, यह दिन हमें घृणा पर प्यार की जीत की याद दिलाता रहे। यह ऐसी ताकत है जिसे गोली मार नहीं सकती। यह हमारी असली ताकत है। शुक्रिया।

यहां पर भारतीय दूतावास में 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के पीडि़तों की याद में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें अमेरिका के आतंकवाद विरोधी कार्यक्रम के एक शीर्ष अधिकारी ने पाकिस्तान से लश्कर-ए-तैयबा तथा अन्य आतंकवादियों को न्याय के दायरे में लाने की मांग की। विदेश मंत्रालय के आतंकवाद निरोधक समन्वयक नाथन सेल्स ने अपने संक्षिप्त बयान में कहा, ;;हम सभी देशों खासतौर पर पाकिस्तान से मांग करते हैं कि वे दोषियों को सजा दिलाने की अपनी जिम्मेदारी निभाएं। सभी देश संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादी संगठनों और इसके नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के अंतरराष्ट्रीय दायित्वों को निभाएं।

विदेश मंत्रालय ने इस हमले को अंजाम देने वाले अथवा इसमें किसी प्रकार की सहायता करने वाले के बारे में कोई सुराग देने वाले व्यक्ति को 50 लाख डॉलर का इनाम देने की घोषणा का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ;;इसके साथ हम विश्व को यह याद दिलाते हैं कि हम 10 वर्ष पहले मारे गए लोगों को भूले नहीं हैं और हम तब तक आराम से नहीं बैठेंगे जब तक कि दोषियों को सजा नहीं मिल जाती। अमेरिका में भारतीय राजदूत नवतेज सरना ने हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इन हमलों में भारतीयों के अलावा 14 अन्य देशों के नागरिक भी मारे गए थे।

उन्होंने आतंकवाद के सभी स्वरूपों की आलोचना की। साथ ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय से इस हमले के दोषियों को न्याय के कठघरे में लाने की पाकिस्तान से मांग करने को कहा। सरना ने विदेश मंत्रालय को ;;रिवॉर्ड फॉर जस्टिस जैसे कदम उठाने के लिए शुक्रिया अदा किया।

इस कार्यक्रम में मारे गए लोगों की याद में दो मिनट का मौन भी रखा गया। साथ ही इस अवसर पर परमार्थ संस्था ;वन लाइफ एलाइंस की सह संस्थापक चेर द्वारा लिखे गए एक लेख के कुछ अंश भी पढ़ कर सुनाए गए। कार्यक्रम के अंत में एचबीओ का वृत्तचित्र ;टेरर इन मुंबई भी दिखाया गया।

इस फिल्म को लेकर बड़े उत्साहित है खिलाड़ी कुमार, इसलिए बता रहे हैं खास

Akshay Kumar excited for Mission Mangal film

मुंबई।बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार यानी अक्षय कुमार अपनी आने वाली अगली फिल्म मिशन मंगल को लेकर बड़े उत्साहित हैं। बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार, आर बाल्की के साथ मिलकर फिल्म मिशन मंगल बना रहे हैं। अक्षय कुमार इस फिल्म को लेकर काफी उत्साहित हैं। मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार फिल्म में पांच अभिनेत्रियां काम कर रही हैं। जिनमें विद्या बालन, तापसी पन्नू, कृति कुल्हरी, नित्या मेनन और सोनाक्षी सिन्हा अहम किरदार में हैं।

अक्षय कुमार से जब यह पूछा गया कि वह ऐसी फिल्म में क्यों काम कर रहे हैं जिसमें कई अभिनेत्रियां काम कर रही है। इस सवाल पर अभिनेता अक्षय कुमार ने कहा है कि इस फिल्म की स्क्रिप्ट की डिमांड है कि महिलाओं को ही रियल हीरो मान कर कहानी दिखाई जाए। मैं भले ही इस फिल्म को प्रोड्यूस कर रहा हूं।

लेकिन इस फिल्म में जितना दिखना है, उतना ही दिखूंगा। मुझे इस बात की खुशी है कि ये सारी अभिनेत्रियों ने मुझे एक बार भी मना नहीं किया है। सब बड़े नाम हैं लेकिन उनको इस बात की चिंता नहीं है कि मैं ये फिल्म क्यों करूं, किसका क्या रोल है। उनका ये नजरिया मुझे पसंद आया है।

अक्षय कुमार ने कहा है कि मुझे नहीं लगता कि कभी ऐसे पांच हीरो मिल कर ऐसी किस फिल्म का हिस्सा बनते, शायद ही पांच हीरों एक साथ आएं लेकिन मैंने जब मैंने इन सभी को अप्रोच किया। सभी अपने किरदार को लेकर उत्साहित थीं। मिशन मंगल अगले साल 15 अगस्त के मौके पर रिलीज हो सकती है।

बिग बॉस सीजन-12: मैच फिक्सिंग को लेकर श्रीसंत ने किया बड़ा खुलासा, फूट-फूट कर निकले आंसू

sreesanth-talks-about-ipl-match-fixing-controversy in Bigg Boss-12

एंटरटेनमेंट डेस्क।चाहे हरभजन सिंह के साथ थप्पड़ को लेकर या फिर आईपीएल के दौरान स्पॉट फिक्सिंग को लेकर हमेशा विवादों में घिरे रहने वाले भारतीय टीम के पूर्व क्रिकेटर एस श्रीसंत अभी बिग बॉस सीजन 12 में नजर आ रहे हैं। इस दौरान श्रीसंत ने अपनी जिंदगी से जुड़े कई सीक्रेट सार्वजनिक किए हैं। श्रीसंत के क्रिकेट कॅरियर का सबसे गंदा दाग जो अभी भी उन पर लगा हुआ है वो है आईपीएल के दौरान स्पॉट फिक्सिंग का। बिग बॉस-12 में उन्होंने इस बात को लेकर भी एक बड़ा खुलासा किया है।

सोमवार को प्रसारित हुए शो में श्रीसंत ने खुद पर लगे मैच फिक्सिंग के आरोपों पर भी बोलते नजर आए। इस दौरान श्रीसंत ने अपने उपर लगे फिक्सिंग के आरोपों को गलत बताते हुए खुद को निर्दोष बताया। श्रीसंत ने शो के दौरान खुलासा किया है किजब उन पर मैच फिक्सिंग का आरोप लगा था तब वह इस आरोप को सह नहीं पाए थें और वे डिप्रेशन में चले गए थे।

उन्होंने खुलासा करते हुए बताया है कि डिप्रेशन के दौरान उन्होंने सुसाइड करने के बारे में भी सोचा था। इस दौरान श्रीसंथ बताया कि उन पर 10 लाख रुपए लेकर मैच फिक्सिंग का आरोप है। उन्होंने आगे कहा कि भले ही फिक्सिंग का प्रूफ है, लेकिन मैंने ये नहीं किया है। इतना कहते-कहते श्रीसंथ रोने लगते हैं। फिर दीपिका उन्हें संभालती हैं।

उल्लेखनीय है कि इंडियन प्रीमियर लीग 2013 के दौरान श्रीसंत स्पॉट फिक्सिंग मामले में दोषी पाए गए थे। जिसके बाद बीसीसीआई ने उन पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया था। हालांकि 2015 में दिल्ली सेशंस कोर्ट ने श्रीसंत को मैच फिक्सिंग के सभी आरोपों से बरी कर दिया था, लेकिन बीसीसीआई ने बैन को हटाने से मना कर दिया।

43 साल बाद विश्व को जीतने के इरादे से उतरेगी भारतीय टीम

Indian hockey team hopes to win medals in World Cup after 43 years

भुवनेश्वर।आत्मविश्वास से ओत-प्रोत भारतीय हॉकी टीम खचाखच भरे कलिंगा स्टेडियम पर दर्शकों की जबर्दस्त हौसला अफजाई के बीच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बुधवार को उतरेगी तो उसका इरादा विश्व कप में 43 साल से पदक नहीं जीत पाने का मलाल मिटाने का होगा। आठ बार की ओलंपिक चैम्पियन भारतीय टीम 1975 में एकमात्र विश्व कप जीती थी जब अजित पाल सिंह और उनकी टीम ने इतिहास रच डाला था। पूल सी के मुकाबले में मेजबान भारत कल अपने अभियान का आगाज करेगा। उसके बाद से एशियाई धुरंधर भारतीय टीम नीदरलैंड, जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया के स्तर तक पहुंचने में नाकाम रही। पिछले चार दशक से यूरोपीय टीमों ने विश्व हॉकी पर दबदबा बनाए रखा है।

भारत ने 1975 के बाद सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन मुंबई में 1992 में हुए विश्व कप में किया जब वह पांचवें स्थान पर रहा था। पिछले 43 साल में विश्व कप का कोई पदक भारत की झोली में नहीं गिरा है। विश्व रैंकिंग में पांचवें स्थान पर काबिज भारत इस बार पदक जीतकर उस कसक को दूर करना चाहेगा। वैसे यह उतना आसान भी नहीं होगा क्योंकि उसे दो बार की गत चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया, नीदरलैंड, जर्मनी और ओलंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना जैसी टीमों से पार पाना होगा। इसके अलावा अच्छे प्रदर्शन की अपेक्षाओं का भी भारी दबाव हरेंद्र सिंह की टीम पर होगा। पिछली बार 2010 में दिल्ली में हुए विश्व कप में भारत आठवें स्थान पर रहा है। अभी तक नौ देशों ने विश्व कप की मेजबानी की है जिनका प्रदर्शन अपनी मेजबानी में अच्छा नहीं रहा है। दो साल पहले लखनऊ में जूनियर टीम को विश्व कप दिलाने वाले कोच हरेंद्र एशियाई खेलों में स्वर्ण बरकरार नहीं रख पाने के कारण दबाव में हैं। उनके लिए यह करो या मरो का टूर्नामेंट है और अच्छा प्रदर्शन नहीं करने पर उनकी नौकरी जा सकती है।

हरेंद्र ने कहा है कि एशियाई खेलों के सेमीफाइनल में मलेशिया से मिली हार से हम उबर चुके हैं। खिलाड़ी आक्रामक हाकी खेल रहे हैं और अच्छे नतीजे दे सकते हैं। इसके लिए हमें मैच दर मैच रणनीति बनानी होगी। अपने देश में खेलने को हम दबाव नहीं बल्कि प्रेरणा के रूप में लेंगे। हरेंद्र ने विश्व कप विजेता जूनियर टीम के सात खिलाडिय़ों को मौजूदा टीम में रखा है जबकि कप्तान मनप्रीत सिंह, पी आर श्रीजेश, आकाशदीप सिंह और बीरेंद्र लाकड़ा भी टीम में हैं। ड्रैग फ्लिकर रूपिंदर पाल सिंह को टीम से बाहर किया गया जबकि स्ट्राइकर एस वी सुनील फिटनेस कारणों से बाहर हैं। सोलह देशों के टूर्नामेंट में भारत, दक्षिण अफ्रीका, बेल्जियम और कनाडा पूल सी में हैं।

दुनिया की तीसरे नंबर की टीम बेल्जियम से भारत को सतर्क रहने की जरूरत है जबकि दक्षिण अफ्रीका की रैंकिंग 15 और कनाडा की 11 है। बेल्जियम के खिलाफ मैच पूल चरण में असल चुनौती होगा जिसमें जीतकर भारत सीधे क्वार्टर फाइनल में जगह बनाना चाहेगा ताकि क्रासओवर नहीं खेलना पड़े। बेल्जियम से सामना दो दिसंबर को और कनाडा से आठ दिसंबर को होगा। सोलह साल बाद विश्व कप में सोलह टीमें हैं जिन्हें चार चार के पूल में बांटा गया है। हर पूल से शीर्ष टीम क्वार्टर फाइनल में खेलेगी जबकि दूसरे और तीसरे स्थान की टीमें क्रासओवर खेलकर अंतिम आठ में जगह बनायेंगी। पहले दिन दूसरे मैच में बेल्जियम का सामना कनाडा से होगा।

ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट सीरीज जीतने का इरादा लिए अभ्यास मैच में उतरेगी भारतीय टीम

India will prepare Test series from practice match against Cricket Australia XI

सिडनी।ऑस्ट्रेलिया में पहली टेस्ट सीरीज जीतने की कोशिशों में जुटी भारतीय क्रिकेट टीम बुधवार से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया एकादश के खिलाफ एकमात्र अभ्यास मैच का पूरा फायदा उठाना चाहेगी। चार टेस्ट की सीरीज छह दिसंबर से एडीलेड में शुरू होगी। इस मैच को प्रथम श्रेणी का दर्जा नहीं दिया गया है जिससे भारत के सभी खिलाड़ी इसमें भाग ले सकते हैं।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया एकादश में भी डीआर्सी शॉर्ट को छोडक़र कोई जाना माना नाम नहीं है। भारत के लिए यह सफेद गेंद से लाल गेंद के अनुकूल खुद को ढालने का एकमात्र मौका है। इस सीरीज के बाद 2019 विश्व कप तक भारत को लगातार वनडे क्रिकेट खेलना है। इस साल यह विदेशी धरती पर आखिरी टेस्ट सीरीज है।

टी20 सीरीज बराबरी पर रहने के बाद भारतीय टीम ने मंगलवार को यहां तीन घंटे तक अभ्यास किया। थ्रो डाउन विशेषज्ञ नुवान सेनेविरत्ने के सामने सभी प्रमुख बल्लेबाजों ने अभ्यास किया। बल्लेबाजों ने ऑफ स्पिन के खिलाफ भी खास तैयारी की है। वॉशिंगटन सुंदर 29 नवंबर तक टीम को अभ्यास कराने के लिए यहां मौजूद थे।

विराट कोहली ने सबसे पहले थ्रो डाउन पर अभ्यास किया और फिर स्पिन नेट पर चले गए। रोहित शर्मा और केएल राहुल ने लंबा अभ्यास किया और कुलदीप यादव की लेग स्पिन का सामना किया। ऋषभ पंत, पार्थिव पटेल और हनुमा विहारी सबसे आखिर में नेट सत्र से निकले। सिडनी में अगले 24.36 घंटे में भारी बारिश की आशंका है जिससे मैच सिमटकर तीन दिन का भी हो सकता है।

159 अंक की बढ़त के साथ हरे निशान पर बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes on green mark with 159 points up

मुंबई।सुबह गिरावट के साथ खुले बाजार में कारोबार की समाप्ति पर बढ़त देखने को मिली और दोनों ही प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी बढ़त के साथ हरे निशान पर बंद हुए। बढ़त के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 159.06 अंक यानि 0.45 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,513.14 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी में भी कारोबार की समाप्ति पर बढ़त देखने को मिली और ये 57.00 अंक यानि 0.54 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,685.60 के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान शेयर बाजार बढ़त के साथ हरे निशान पर खुला और बढ़त के साथ ही बंद हुआ।कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स सेंसेक्स 137.07 अंक यानि 0.39 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,118.09 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 373.06 अंक यानि 1.07 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,354.08 के स्तर पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 41.55 अंक यानि 0.39 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,568.30 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 101.85 अंक यानि 0.97 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,628.60 के स्तर पर बंद हुआ।




from National - samacharjagat.com
आगे पढ़े -समचरजगत

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here